Makar Sankranti 2022: Full Details

मकर संक्रान्ति हिंदू कैलेंडर के हिसाब से माघ मास के प्रथम दिन मनाई जाती है। इस दिन सूर्य देवता धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते है जिसे मकर संक्रान्ति के रूप में संपूर्ण भारतवर्ष में मनाया जाता है। यह त्योहार आमतौर पर हर वर्ष जनवरी मास की 14 तारीख को मनाया जाता है यानी लोहड़ी पर्व से अगले दिन और कभी कभी ज्योतिषीय गणना के आधार पर 13 तारीख को लोहड़ी के साथ या कभी कभी 15 तारीख को भी इस दिन का निर्धारण किया जाता है। ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार इस वर्ष मकर संक्रांति 2022 में सूर्य देव का मकर राशि में प्रवेश 14 तारीख को दोपहर 02:27 pm पर होने जा रहा है और ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार अगर सूर्यास्त से पहले सूर्य देव मकर राशि में प्रवेश करते है तो पुण्यकाल इसी दिन रहेगा। 

 पंजाब,हरियाणा मैं इसे संक्रांति या संगरांद और उत्तर भारत में मकर संक्रान्ति को संक्रांति या उतरायण के नाम से जाना जाता है, उत्तराखंड में  उतरायणी तो गुजरात में उतरायण के नाम से जाना जाता है जबकि दक्षिण भारत खासकर केरल में इसे पोंगल के नाम से मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें- सोलह सोमवार व्रत कथा आरती

        मकर संक्रांति का शास्त्रोक्त महत्व

मकर संक्रांति को हिंदू धर्म और शास्त्रों में अत्यधिक महत्व प्राप्त है। सूर्य देवता के इस दिन धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करने से सूर्य देवता दक्षिणायन से उत्तरायण हो जाते हैं और उतरायण को देवताओं का दिन माना जाता है जबकि दक्षिणायन को देवताओं की रात्रि माना जाता है। उतरायण में जनवरी मास से जून मास तक का समय अर्थात उतरायण अवधि में शुभ कार्यो के लिये मुहूर्त अधिक होते है।

Makar Sankranti 2022: Full Details

      मकर संक्रांति को स्नान का महत्व

मकर संक्रांति को हरिद्वार,काशी,गढ़गंगा और नर्मदा आदि धार्मिक महत्व की नदियों में स्नान करना अति शुभ माना गया है। इस दिन पवित्र और धार्मिक महत्व की नदियों में स्नान करने से पाप कर्मों का नाश होता है।

      मकर संक्रांति पर सूर्य पूजा का महत्व

मकर संक्रांति पर्व पर सूर्य देव की पूजा का विशेष महत्व हैं। प्रातः काल को आप स्नान करके सूर्य देव को जल में लाल फूल या लाल चंदन डालकर उगते सूरज को जल अर्पित करें तथा साथ ही ॐ सूर्याय नम: या ॐ आदित्याय नम: मंत्र का उच्चारण करें जो की बहुत ही लाभकारी रहेगा। ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार सूर्य देवता का संबंध सरकारी नौकरी, शासन सत्ता से किसी भी रूप में लाभ की प्राप्ति और जीवन में मान सम्मान की प्राप्ति से सीधा संबंध है। अगर आप सरकारी नौकरी, शासन से लाभ और जीवन में मान सम्मान पाना चाहते हैं तो आपकी जन्म कुंडली में सूर्य देव की स्थिति अच्छी होनी चाहिये और अगर जन्म कुंडली में सूर्य देव की स्थिति अच्छी नहीं है तो राजभय और जीवन में मान सम्मान की कमी रहेगी। मकर संक्रांति को विशेषकर सूर्य देव की उपासना से आपको अवश्य ही शुभ फल की प्राप्ति होगी।

      मकर संक्रांति को दान का महत्व

सूर्य देव को जल अर्पित करने के बाद थोड़े से तिल या रेवड़ी,मक्के के फुले या पॉपकॉर्न,मूंगफली मकर संक्रांति पर अपने आसपास सुबह जलाई जाने वाली अग्नि में आहुति दे या अपने घर पर ही अंगीठी या गैस में आहुति दे।

       मकर संक्रांति पर क्या खांये

इस दिन काले उड़द की दाल और चावल की खिचड़ी बनाकर खाई जाती है। इस दिन तिल,रेवड़ी,तिल के लडडू और गज्जक और गुड़ का सेवन कर सकते है। इस दिन तिल का सेवन सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि आर्युवेद के अनुसार तिल का सेवन इस समय भारी ठंड से आपके शरीर को बचाता हैं। बिहार और उतर प्रदेश में लोग मकर संक्रांति को खिचड़ी पर्व के नाम से भी मनाते है और चावल और काले उड़द की दाल की खिचड़ी बनाई जाती है। हरियाणा और पंजाब में इस दिन खिचड़ी,रेवड़ी,तिल की गज्जक और लड्डू,पॉपकॉर्न और मक्के की रोटी और सरसो का साग खाया जाता हैं। दक्षिण भारत खासकर केरल मैं मकर संक्रांति को पोंगल के रूप मैं मनाया जाता हैं और गुड़, चावल और दाल से पोंगल बनाया जाता है और विभिन्न प्रकार की कच्ची सब्जियों को मिलाकर सब्जी बनाई जाती हैं और सर्वप्रथम ये सब थोड़ा थोड़ा भगवान सूर्य को अर्पित किया जाता है और उस के बाद बाकी को परिवार इसे भगवान सूर्य के प्रशाद रूप मैं ग्रहण किया जाता है। इस दिन गन्ना खाने की भी परंपरा है।

Makar Sankranti 2022: Full Details

       मकर संक्रांति पर तिल का महत्व

तिल का हिंदू रीति रिवाजों में विशेष महत्व है और लगभग सभी धार्मिक कार्यों और अनुष्ठानों में सफेद और काले तिल के प्रयोग की परंपरा हैं। शास्त्रों के अनुसार माघ मास में जो भी व्यक्ति प्रतिदिन तिल से भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करता हैं,  उसके सभी पाप कर्मों का नाश हो जाता हैं और तिल का ज्योतिषीय संबंध यह है कि इस दिन सूर्य देव धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते है जो की सूर्यपुत्र शनिदेव की राशि है और ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार शनिदेव सूर्यपुत्र होते हुए भी सूर्य देव से शत्रु भाव रखते है। अत: शनि देव के घर में सूर्य देव की उपस्थिति के दौरान शनि देव उन्हे कष्ट न दे इस लिये इस दिन काले तिलो का दान भी किया जाता है और आपने अक्सर देखा होगा की शनिवार या शनिदेव की पूजा में काले तिल सबसे प्रमुख स्थान रखते है।


          मकर संक्रांति पर पतंगबाजी

मकर संक्रांति पर लगभग सभी जगहों पर पतंगे उड़ाई जाती है और बच्चे और बड़े इसे बड़े चाव से उड़ाते है और खासकर गुजरात में तो जगह जगह पतंगबाजी उत्सवों का आयोजन किया जाता हैं।



     

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें